impact of mahamrityunjaya jap

Know when to chant Mahamrityunjaya Mantra?

Mahamrityunjay when? |महामृत्युंजय कब करें? |महामृत्युंजय मंत्र का जाप करते समय क्या सावधानी रखें? |

महामृत्युंजय मंत्र पढ़ने से क्या होता है?

महामृत्युंजय मंत्र का जाप कैसे करना चाहिए?

Jaankari: analysis of impact of Mahamrityunjaya Jap

Mahamrityunjaya Mantra Jaap

महामृत्युंजय मंत्र का अनुष्ठान किसको और कब करना चाहिए? :-

गंभीर रोग और मृत्युतुल्य कष्ट होने की दशा में महामृत्युंजय मंत्र अचूक उपाय बताया जाता है. अतः. असाध्य रोगों से मुक्ति और अकाल मृत्यु से बचने के लिए महामृत्युंजय मंत्र का प्रयोग किया जाता है.

कहा जाता है कि किसी प्रकार की महामारी में महामृत्युंजय मंत्र कवच की तरह कार्य करता है.

कहा जाता है कि शनि की साढ़ेसाती, शनि की ढैया, पनौती (पंचम शनि) हो तो यह अनुष्ठान करना चाहिए.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.