पालक से आयरन निकाल कर सरिया बना लो

आत्मनिर्भरता के इस आइडिया से डब्ल्यूएचओ आत्महत्या कर लेगा

5 – 6 वर्ष पहले मुझे पहले-पहल डायबिटीज प्रकट हुई तो मुझे थोड़ी चिंता हो गई। मैंने अपने एक मित्र जिन्हें पहले से डायबिटीज थी उन्हें बताया कि यार गुरू हमें भी तुम्हारा रोग हो गया।

उन्होंने कहा कि चिंता की कोई बात नहीं है। डॉक्टर की सलाह से समय पर दवाई लो और परहेज करो।

इसके साथ ही उन्होंने कहा कि किसी को बताना मत कि तुम्हें डायबिटीज है।

उनकी यह हिदायत मुझे बड़ी रहस्यमयी लगी। मैंने उनके सामने जिज्ञासा प्रकट की कि ये कोई गुप्त रोग तो है नहीं फिर दूसरों को बताने में क्या हर्ज है ?

तब उन्होंने मुझे इत्मीनान से समझाया कि हर्ज तो कुछ नहीं है, लेकिन तुम जिस – जिस को बताओगे वह अपनी ओर से शुगर की एक ना एक अचूक दवा ज़रूर बता देगा और जोर देगा कि डॉक्टरी दवाई बन्द कर दो और सिर्फ हमारी दवा लो शर्तिया फायदा होगा। इसी तरह के लोग अपने द्वारा बताई गई दवाई के पक्ष में कई केस हिस्ट्री सुनाने लगते हैं कि कितनों को इससे लाभ हुआ और शुगर छूमन्तर हो गई।

कोरोना काल में तो फेसबुक व्हाट्सएप पर कोरोना की रोजाना नई-नई दवा और नुस्खे पढ़ने को मिले।

कोई कह रहा था कि गौमूत्र से कोरोना छू मंतर हो जाएगा तो कोई गिलोय से कोरोना गायब करने की बात कर रहा था। सरकार काढ़ा बांटकर कह रही थी कि काढ़ा अपनाओ : कोरोना भगाओ। च्वयनप्राश सहित बहुत सी आयुर्वेदिक दवाइयों के बारे में यह दावा किया जाने लगा कि यह इम्युनिटी बढ़ाने के लिए बनी हैं।

इस भीड़ में रामदेव भी अपनी दुकान सजाकर बैठ गए। इस दौरान कोरोना की जितनी दवाइयां सामने आईं, अगर उन सबको एक जगह एकत्रित किया जाए तो WHO आत्महत्या कर लेगा। कोरोना की झाड़ा फूंकी भी शुरू हो गई और नए-नए गुनिया पड़िहार पैदा हो गए।

आत्मनिर्भरता का नया नुस्खा

हमारे यहां ज्ञानी महापुरुषों की कमी नहीं है। फालतू बैठे-बैठे उनके दिमाग में सनक की तरह कई विचार आते रहते हैं। कभी उन्हें लगता है कि नाले की गैस से चाय बन सकती है तो कभी लगता है कि हवा की आर्द्रता से पानी बन सकता है ऑक्सीजन बन सकती है। अब यह आइडिया भी आया है कि पालक से आयरन निकाल कर सरिया बना लो तो देश आत्मनिर्भर हो जाएगा।

मतलब एक आइडिया से कई आइडिया जन्म लेते हैं।

@ गोपाल राठी

(गोपाल राठी की फेसबुकिया टिप्पणी का संपादित अंश साभार)

By pdadmin

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.