Film News

मिमी रिव्यू : Mimi review by News helpline

कृति सेनन के फिल्मी करियर की द बेस्ट फिल्म (The best film of Kriti Sanon’s film career) की अगर बात की जाएगी तो कृति सेनन की फिल्म ‘मिमी’ का जिक्र होना बहुत जरूरी है। फिल्म बिना किसी लीड एक्टर के केवल कृति के जज्बात और चुलबुली किरदार से बढ़ती है। वहीं फिल्म के हर सीन में नजर आए पंकज त्रिपाठी भी फिल्म में पूरी जान डालते दिखे‌।

कृति सेनन और पकंज त्रिपाठी के अलावा साई तम्हणकर, मनोज पाहवा, सुप्रिया पाठक, जया भट्टाचार्य, एवलिन एडवर्ड्स जैसे कलाकार फिल्म में अपनी खास जगह बनाते नजर आए।

 मिमी की पटकथा

राजस्थान के छोटे से गांव में रहने वाली मिमी जो लोगों के बीच डांसर के तौर पॉपुलर है, अब उसका सपना है मुंबई पहुंचर हीरोइन बनना। ऐसे में जब मिमी फोटोशूट करवाने के खर्चे के बारे में जानती है तो निराश हो जाती हैं। छोटे से गांव में रहनेवाली मिमी को रकम महंगी लगती है। फिर मिमी के इस सपने को पूरा करने के लिए टैक्सी ड्राइवर पंकज त्रिपाठी आते हैं। पंकज मिमी को सरोगेट मदर बनने का सुझाव देता है। जिसके लिए पंकज और मिमी को अंग्रेज कपल्स से अच्छे-खासे पैसे मिलते हैं। और मिमी अपने हीरोइन बनने के सपने को सरोगेट मदर बनकर पूरा करने की कोशिश करती हैं। मिमी अपने परिवार से दूर अपनी मुस्लिम सहेली के घर रहने लगती है। मुस्लिम किरदार सई ताम्हणकर ने निभाया।

 यह स्मूथ गोइंग कहानी मोड़ तब लेती है, जब अंग्रेज कपल्स बच्चे को स्वीकारने से मना कर देते हैं। ऐसे में गर्भवती मिमी टूट जाती है उसे समझ नहीं आता अब उसकी जिंदगी कैसी होगी? मिमी इन सभी दुःखों के साथ जब घर पहुंचती है, तब परिवार भी हैरान रहता है।

मनोज पावा और सुप्रिया पाठक मिमी के माता-पिता का किरदार निभाते दिखे। फिल्म की कहानी अंत में इसी चुनौतियों से जूझती है कि मिमी अब गर्भ में पल रहे बच्चे की जिंदगी बचाएगी या नहीं? इसी इमोशन्स को मिमी यानी कृति बखूबी पेश करती दिखी।

 कहानी का क्लाइमेक्स और अंत ही फिल्म को एकदम खास मोड़ पर छोड़ता हैं। जहां मिमी हीरोइन भले ही ना बने पर मां बनने के खयाल को दूर नहीं कर पाती। इस इमोशन्स को ए.आर रहमान के गानों ने बहुत अच्छे से पिरोया। वहीं सभी कलाकार अपनी-अपनी परफोर्मेंस को खास अंदाज में दर्शकों के साथ कनेक्ट करते दिखे। फिल्म को लक्ष्मण उतेकर की डायरेक्शन ने बखूबी पेश किया।

लक्ष्मण उतेकर और रोहन शंकर की कहानी दमदार साबित हुई।

मराठी फिल्म ‘मला आई व्हायचा’ जिसने नेशनल अवॉर्ड जीता उस पर ही बनी मिमी फिल्म, कृति सेनन की पर्फोर्मेंस के लिए नेशनल अवॉर्ड जिता सकती है। कृति हर सीन में अपना जलवा बिखेरती दिखी। चाहे वह डांसर मिमी का चुलबुला अंदाज हो या सरोगेट मदर बनी मिमी का इमोशन हो।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.